Loading...
Stella dhinakaran

एक सम्पूर्ण बलिदान के द्वारा प्रेम प्रगट हुआ!

Sis. Stella Dhinakaran
19 Apr
बाइबल कहती है, ‘‘परन्तु वह हमारे ही अपराधों के कारण घायल किया गया, वह हमारे अधर्म के कामों के कारण कुचला गया; हमारे ही शांति के लिए उस पर ताडना पडी,कि उसके कोडे हम लोग चंगे हो गए।’’ (यशायाह 53:5)हमारे प्रभु और उद्धारकर्त्ता यीशु मसीह का प्रेम क्रूस पर प्रदर्शित हुआ। उस ने क्रूस को उठाया और खुद का बलिदान दिया कि सभी पापियों को मन फिराने का एक मार्ग मिले और परमेश्वर का राज्य विरासत में मिले। वह हमारे अपराधों के लिए कुचला और घायल किया गया। जब आप रोग शैय्या में पडते हैं तब आप केवल क्रूस पर यीशु की तसवीर अपने सामने लाएं और कहें, हे प्रभु आप ने मेरे अपराधों के लिए क्रूस पर खुद को कुचला; मेरी बीमारी को चंगा करें जो मुझे कुचल रही है। मुझे आपके वचन के द्वारा चंगा करें जो मुझे निश्चयता देता है कि आपके कोडे खाने से मैं चंगी हो गई। और जब आप खुद को दीन करेंगे और इस प्रार्थना को करेंगे, आप निश्चय चंगाई को पाएंगे। सचमुच परमेश्वर आपके लिए अपना प्रेम प्रगट करेगा और तुरंत उसके क्रूस से बल और चंगाई आएगी और आप पर उतरेगी और आपका शरीर चंगा हो जाएगा और आपको छुटकारा मिलेगा। 

हर शुभ शुक्रवार के द्वारा हम इस पर मनन करते हैं। प्रियजन, हमारे लिए केवल शुभ शुक्रवार को ही मनन करना जरूरी नहीं है। हमें हर दिन उसके उदार बलिदान के लिए उसके चरणों में घुटने टेककर खुद को दीन करके यह कहकर मनन करना चाहिए कि, हे प्रभु क्रूस पर आपने मेरे लिए खुद का बलिदान किया। मैं आपकी महिमा के लिए खुद को सौंपता हूं। जब हम खुद को उसके हाथों में सौंपते हैं, तब वह हमारे आंसुओं को पोंछ डालेगा और हमारे शोक को आनन्द में बदल देगा। उसके प्रेम से हमारा जीवन पूरी तरह से बदल जाएगा। जब हम यीशु के प्रेम पर मनन करते हैं जो क्रूस पर प्रगट हुआ था और विश्वास के साथ प्रार्थना करते हैं, तब परमेश्वर हमारी सभी प्रार्थनाओं का उत्तर देगा। तभी तो कई लोग इन चालीस दिनों में अपनी इच्छाओं की बलि चढाकर खुद को दीन करते हैं। कुछ लोग यह भी नहीं जानते कि वे इन दिनों उपवास क्यों रख रहे हैं। प्रियजन, क्रूस पर उसके बलिदान को याद करें और खुद को परमेश्वर के हाथों पूरी तरह से समर्पित करें। जब आप ऐसा करेंगे तब क्रूस पर उसके बलिदान के द्वारा प्रगट किए हुए प्रेम से आपके जीवन में असीम आशीषें आएंगी। 
एक लडकी जो अपनी शारीरिक बीमारी के कारण वह अपने परिवार के द्वारा छोड दी गई। वह एक बडी दयनीय स्थिति में थी। उसे दुख ने आ घेरा जब उसने अपने जीवन को बनाए रखने के लिए पैसे कपडे या स्वास्थ्य की जरूरत थी। एक दिन वह भक्तिपूर्ण बाइबल पढ रही थी तब ऊपर चर्चित वचन पर उसकी आंखें अटक गईं। उस ने खुद से कहा, मैं क्यों किसी भी बात की चिंता करूं जब यीशु मेरे साथ हैं जिस ने मेरी खातिर ऐसे दण्ड को उठाया। उस दिन से उस ने यीशु के चरण पकड लिए। क्या हमारा परमेश्वर ऐसा परमेश्वर नहीं है कि वह अपने बच्चों की प्रार्थना न सुने? हां, दिन बितते गए, प्रभु ने उसकी बीमारी से उसे पूरी तरह से चंगा किया और उसे एक अच्छी नौकरी मिल गई। उसे अपने कार्यस्थल में ऊंचे पद पर रखा। जिस किसी ने उसे छोड दिया था वे सब उसके पास फिर से आए। उसने उनके बुरे कार्यों के लिए उन्हें नहीं त्यागा, परन्तु उस ने मसीह के प्रेम को दिखाया और उनकी आवश्यक मदद की। हां, परमेश्वर के मेरी प्रिय संतानों, आज से हम भी दूसरों के साथ मसीह के प्रेम को दर्शाएं और परमेश्वर की महिमा के लिए एक जीवन बिताएं। 
Prayer:
प्रेमी स्वर्गीय पिता,

आप का प्रेम कितना महान है। आपके प्रेम में कोई बंधन नहीं है। आपको अपना उद्धारकर्त्ता मानने के लिए मैं अपना सौभाग्य समझता/समझती हूं। आपके बलिदान ही से मैं ने चंगाई पाई। आप ने मुझे अपने निर्दोष लहू से धोया है। हे प्रभु आपके प्रेम के लिए धन्यवाद देने को मेरे पास कोई शब्द नहीं है जिसको आपने मुझ पर बरसाया है। आपकी करुणा के द्वारा मेरी लगातार अगुवाई करें। मैं खुद को आपने कीले लगे हुए हाथों में सौंपता/सौंपती हूं। यीशु के नाम में,

आमीन!

1800 425 7755 / 044-33 999 000