Loading...

इस ग्लास को नीचे रखें।

Sharon Dhinakaran
15 Feb
कभी कभी जब हम संकटों का सामना करते हैं तो हम अपनी बुद्धि या दूसरों की सलाह के अनुयायी होते हैं। हमारे लिए आश्चर्य की बात यह होती है कि वे हमें अनावश्यक तनाव, असफलता, डर और निराशा की ओर अगुवाई करते हैं। जैसे ही आप अपनी समस्या के लिए एक हल निकालने के बारे में बहुत ही सोचने लगते हैं, तब आप अपने जीवन से परमेश्वर को निकाल देते हैं और चिंताओं के सागर में डूब जाते हैं। जब आप सब कुछ खुद करने की कोशिश करते हैं तो आपके पांव लडखडाने लगते हैं। इसलिए तनाव और चिंता को रोकने के लिए अपने आप को पूरी तरह से परमेश्वर पर भरोसा रखकर उसके हाथों में सौंप दें कि वह आपका मार्ग सीधा करेगा। वह आप पर कृपादृष्टि भेजेगा और आप जो कुछ भी असम्भव सोच रहे हैं, वह आपके लिए सम्भव करेगा। यहां पर परमेश्वर का उत्तर उन सभी चिंताओं को एक ही वचन में देता है : ‘‘अपना बोझ यहोवा पर डाल दे वह तुझे सम्भालेगा’’ (भजन संहिता 55:22)

एक मनोविज्ञान विशेषज्ञ ने अपने श्रोतागणों को इस तरह से मानसिक तनाव मेनेजमेंट के बारे में उदाहरण दिया: उसने एक पानी के एक ग्लास को उठाकर मुस्कुराते हुए प्ऊछा, इस पानी के ग्लास का वजन कितना होगा? उत्तर 8 आउंस से 20 आउंस तक मिले। उसने उत्तर दिया, यह इस ग्लास का ठीक ठीक वजन का मामला नहीं है परन्तु इस ग्लास को मैं कितने देर तक पकड सकती हूं यह मामला है। यदि मैं इसे एक मिनट तक पकडे रहूं तो इसमें कोई समस्या नहीं है। यदि मैं इसे एक घंटे तक पकडे रहूं तो मेरी बांह में पीडा उत्पन्न होगी। यदि मैं इसे एक दिन तक पकडे रहूं मेरी बांहें सून्न हो जाएंगी और अधरंग हो जाएगा।  हम यदि ध्यानपूर्वक देखते हैं तो पानी के ग्लास में कोई परिवर्तन नहीं आता परन्तु मैं जितनी देर इसे पकडे रहूं ये भारी हो जाता है। उसने कहना जारी रखा, हमारे जीवन में तनाव और चिंता भी इस पानी के ग्लास के समान होते हैं। जब आप एक मिनट के लिए इसे सोचते हैं तो कोई समस्या नहीं होती। जब आप इसके बारे में अधिक सोचते हैं तो उससे आपको चोट पहुंचती है। यदि आप इसे पूरे दिन सोचते रहते हैं, तो आप को अधरंग का अनुभव होगा-कुछ करने की अयोग्यता!
प्रियजन, यह बहुत ही महत्त्वपूर्ण है कि हमें चिंताओं में लिपटे रहने से सुरक्षित होना है। आप अपने तनाव को जाने दें। आप जितना हो सके प्रभु पर अपना बोझ डाल दें जो कहता है, हे सब परिश्रम करनेवालो, और बोझ से दबे हुए लोगों, मेरे पास आओ; मैं तुम्हें विश्राम दूंगा। मेरा जुआ अपने ऊपर उठा लो, और मुझ से सीखो; क्योंकि मैं नम्र और मन में दीन हूं। (मत्ती 11:28-29) क्या आप अपनी आगामी परीक्षाओं के बारे में चिंतित हैं? क्या आर्थिक परेशानियां आपका गला घोंट रही है?क्या आप स्वास्थ्य की समस्याओं से लडखडा रहे हैं? याद रखें इस ग्लास को नीचे रखें। प्रभु को पकडे रहें जिसने आकाश और पृथ्वी को बनाया है। उसके लिए सन कुछ सम्भव है। वह आपके लिए जंगल में एक मार्ग बनाएगा। आप डर के बिना अपना जीवन बिता सकेंगे क्योंकि इसी घडी परमेश्वर आपके हृदय में आ गया है। वह नि:संदेह आपको नहीं भूलेगा। वह आपको भूल ही नहीं सकता।
Prayer:
प्रेमी प्र भु,

मैं जानती हूं कि आप मेरे आगे आगे चलते हैं। आप मेरी हर समस्याओं को जानते हैं। अब भी मैं अपनी चिंताओं और तनाव को आप को सौंपती हूं। ये चिंता की आत्मा को भगाने के लिए मेरी मदद करें। इस तनाव से मुझे बाहर निकालें। हे परमेश्वर,आप ही तो बुद्धि के स्रोत हैं । इस समस्या को सुलझाने के लिए मुझे हल दें। प्रतिदिन मुझे शांतिपूर्वक सोने की आशीष दें। यीशु के नाम में, मैं प्रार्थना करती हूं,

आमीन!

For Prayer Help (24x7) - 044 45 999 000