Loading...
DGS Dhinakaran

समृद्धि के द्वारा आशीषित जीवन!

Bro. D.G.S Dhinakaran
14 Mar
वह उत्तम गेहूं और शहद के साथ आपको भी संतुष्ट करेगा (भजन 81:16)​
बाइबिल कहते हैं, वह समय था, जब अय्यूब अपनी समृद्धि की चोटी पर था उस समय वह पृथ्वी पर सबसे बड़ा और सबसे अमीर आदमी था (अय्यूब 1: 3)। और उसके पास उसके साथ एक बडा घराना था जिससे कि वह हर चीज में उसकी सहायता करता था। पवित्र शास्त्र कहता है, सुख के दिन सुख मान (सभोपदेशक 7:14)। हां, अय्यूब खुश था उसी समय व्यवस्थाविवरण 28:47 कहता है, तू जो सब पदार्थ की बहुतायत होने पर भी आनन्द और प्रसन्नता के साथ अपने परमेश्‍वर यहोवा की सेवा नहीं करेगा। परमेश्‍वर को उम्मीद है कि हमें उसे एक परिवार के रूप में सेवा करनी चाहिए। अय्यूब ने भी यही किया वह मन की खुशी से परमेश्‍वर के सामने अप नी सभी भलाई के साथ सेवा करता था। परमेश्‍वर स्वयं कहता है, अय्यूब खरा और सीधा और परमेश्‍वर का भय मानता और बुराई से दूर रहता था। (अय्यूब 1: 8)।
 
कुछ लोग खुद का ख्याल रखते हैं, लेकिन वे अपने परिवारों को भूल जाते हैं। लेकिन अय्यूब बहुत सावधानीपूर्वक देख रहा था कि उनके बच्चे पवित्र जीवन जीते थे और वह परमेश्‍वर को बलि चढ़ाता था और उन्हें पवित्र करने के लिए कहता था। वह एक परिवार के रूप में मन के आनन्द से परमेश्‍वर की सेवा किया करता था और कहता था, सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर मेरे साथ है (अय्यूब 29: 5) तब मैं अपने पगों को मलाई से धोता था और मेरे पास की चट्टानों से तेल की धाराएं बहा करती थीं। (अय्यूब 29: 6) यही तो उसकी समृद्धि का रहस्य था
जब परमेश्‍वर ने यहोशू को इस्राएल के लिए जाने और युद्ध करने के लिए बुलाया, उसने कहा, यहोशू, मैं तेरे संग रहूंगा (यहोशू 1: 5)। और उसने गिदोन से कहा, मैं तेरे संग रहूंगा (न्यायियों 6:16)। जब उसने यिर्मयाह को ईश्‍वर के एक भविष्यद्वक्ता होने के लिए बुलाया, तो उसने कहा, यिर्मयाह, डरो मत, मैं तेरे साथ रहूंगा (यिर्मयाह 1: 8, 1 9)। परमेश्‍वर यूसुफ नामक एक जवान व्यक्ति के साथ था और उसने जो कुछ किया उसमें वह सफल हुआ (उत्पत्ति 39: 3)। हाँ, जहां परमेश्‍वर है, वहां समृद्धि होगी।
ओबेदेदोम नामक एक व्यक्ति था, जो परमेश्‍वर का सम्मान करता था और भय भक्ति और श्रद्धा के साथ चलता था। उसके पास वाचा के सन्दूक के साथ अद्भुत निवास स्थान था, जो उसके घर में था। परमेश्‍वर ने उसे और उसके समस्त घराने को आशीष दी। (2 शमूएल 6:11)। इसी तरह, परमेश्‍वर ने अय्यूब को आशीष दी थी उसे कोई दुख नहीं था। बाइबिल के मुताबिक, अय्यूब के दिनों में, जो व्यक्ति समृद्ध होता है, उसे जीवन में दो चीजें होती हैं-हर समय उसके घर में बहुतायत होता है, अर्थात एक शहद है, एक और चीज मलाई है। दोनों घर में नदियों की तरह बहती है वह समृद्ध होता है अय्यूब को इस पर आशीष मिली थी (अय्यूब 29: 6)। उसने परमेश्‍वर की बहुतायत का आनंद लिया।
 
जब हजारों हजार इस्राएलियों ने मिस्र से लेकर फिलिस्तीन तक गए परमेश्‍वर ने उन्हें खिलाया (व्यवस्था 32:14)। वह उत्तम गेहूं और शहद के साथ आपको भी संतुष्ट करेगा (भजन 81:16)। हाँ, परमेश्‍वर की आशीष धन लाता है (नीतिवचन 10:22)।
Prayer:
हे प्रेमी पिता, मुझे भी अय्यूब के जैसा खरा और धर्मी मनुष्य बना कि मैं बुराई से दूर रहूं और तेरा भय मानता रहूं। धन तो तेरी आशीष से मिलता है जिसमें दुख नहीं मिला रहता है। जो कुछ मैं करूं सफलता पाऊं। यीशु के मधुर नाम में, मैं प्रार्थना करता/करती हूं, आमीन।

1800 425 7755 / 044-33 999 000