Loading...
Dr. Paul Dhinakaran

परमेश्वर की शांति!

Dr. Paul Dhinakaran
12 Feb
शांति को पाने के लिए लोग उसका उपचार पाने के लिए यहां से वहां भागते रहते हैं। प्रियजन, यीशु के पास आएं। परमेश्वर की शांति सभी प्रकार के रोगों की दवा है। सृष्टिकर्त्ता जानता है कि उसकी सृष्टि को उसकी असली जगह में कैसे पहुंचाएं। यहां पर प्रभु से मन को शांति देनेवाली एक प्रतिज्ञा है: ‘‘मैं तेरा इलाज करके तेरे घावों को चंगा करूंगा’’ (यिर्मयाह 30:17) यदि आप शांति की कमी के जुए के नीचे दुखी हैं, तो आप परमेश्वर के पंखों तले आएं। आप सुरक्षित रहेंगे। उसकी छांव में आप को हानि न होगी। भाई जयसन पॉल की गवाही को हम प्रस्तुत करते हैं जैसे कि उसने मानसिक रोग से चंगाई पाई थी:

मैं लगभग पिछले 14 वर्षों से हिस्टिरिया से प्रभावित था। मैं इस जुए के नीचे रहता था कि मैं कभी भी अकेला बाहर आ जा नहीं सकूंगा या पढाई कर सकूंगा। मेरे परिवार के सभी सदस्य मुझे लेकर बहुत चिंतित थे। इस परिस्थिति में, मैं ने (तमिलनाडु) के मदुरै में वर्ष 2003 में यीशु बुलाता है सभा में भाग लिया। उस रात डॉ पॉल ने पवित्र आत्मा की अगुवाई से हिस्टिरिया से प्रभावित लोगों के छुटकारे के लिए प्रार्थना की। जैसे कि मैं भी उनके साथ साथ प्रार्थना कर रहा था, तब मैं ने अपने शरीर में किसी के स्पर्श का अनुभव किया, कुछ गर्म जैसा और मैं नीचे गिर गया। जैसे ही मैं उठा, मैं ने अपने मन और शरीर में एक बडी शांति को भरते हुए अनुभव किया। उस दिन से मुझे उन भयानक आक्रमणों से स्वतंत्रता मिली है और उसके बाद चार वर्ष बीत गए हैं। मैं सामान्य हूं और मैं अपने सभी काम स्पष्ट रूप से कर सकता हूं।
परमेश्वर कितना महान है! अब भी यीशु आपको इन वचनों से शांति से भरेगा। केवल विश्वास करें। उसकी महिमा आपके मन और शरीर जो परमेश्वर का मंदिर है भरेगा और उसकी उपस्थिति में पहाड जैसी कठिनाइयां पिघल जाएंगी। चाहे आपको शारीरिक या मानसिक या भावुक चंगाई की जरूरत हो। आप जैसे ही उसके अद्भुत नाम ‘यीशु’ को पुकारेंगे उसकी शांति आप पर पूरी तरह से हावी हो जाएगी। आपके परेशान हृदय की केवल दवा उसकी शांति ही है। यीशु ने प्रतिज्ञा की, ‘‘मैं तुम्हें शांति दिए जाता हूं, अपनी शांति तुम्हें देता हूं; जैसे संसार देता है, मैं तुम्हें नहीं देता: तुम्हारा मन व्याकुल न हो और न डरे।’’ (यूहन्ना 14:27) इब्रानियों 4:12 कहता है ‘‘क्योंकि परमेश्वर का वचन जीवित और प्रबल और हर एक दोधारी से भी बहुत चोखा है; और प्राण और आत्मा को और गांठ -गांठ और गूदे-गूदे को अलग करके आर-पार छेदता है और मन की भावनाओं और विचारों को जांचता है।’’ हां, परमेश्वर की हर प्रतिज्ञा को अपने हृदय में लें और उस पर विश्वास करें। परमेश्वर की शांति के द्वारा सभी संघर्षों पर जीत हासिल की जा सकती है जो उसके वचन के द्वारा आपकी आत्मा में उमण्डता है। इसके अलावा, आप हर जुए और बंधन को देखेंगे जो टूट जाएगा और आप स्वतंत्र हो जाएंगे। अब भी यीशु के घायल हाथ आपको फिर से शांति देने के लिए रखे हुए हैं। आप अपने लिए इस पवित्रशास्त्र के वचन को लें ‘‘क्योंकि परमेश्वर ने हमें भय की नहीं पर सामर्थ और प्रेम और संयम की आत्मा दी है।’’ (2 तीमुथियुस 1:7)
Prayer:
प्रिय पिता,

आप ने अपने पुत्र यीशु मसीह को इस संसार में मेरे पाप, बीमारी, शाप और निंदा को हटाने के लिए भेजा। अब भी मैं अपने परेशान हृदय को आपके सामने लाता हूं। मेरा मन और शरीर इस जुए के नीचे दब गए हैं। हे प्रभु मुझे अपनी शांति से भरें और मुझे संयम दें। मेरे विश्वास को बढाएं। मेरी परिस्थिति में एक चमत्कार करें। मैं यीशु के नाम में खुद को स्वतंत्र करता हूं,

आमीन!

For Prayer Help (24x7) - 044 45 999 000