Loading...
Paul Dhinakaran

पुनरुत्थान का परमेश्वर!

Dr. Paul Dhinakaran
21 Apr
प्रियजन, मैं अपने परिवार के साथ आपको ईस्टर की शुभकामनाएं देने का मौका उठाता हूं। हम यह उत्सव हमारे उद्धारकर्त्ता यीशु मसीह के क्रूस पर हमारे लिए अपने जीवन को शुद्ध करने के बाद पुनरूत्थान को स्मरण करके मनाते हैं। हम इस ईस्टर को बडे आनन्द के साथ मनाते हैं और मैं विश्वास करता हूं कि हमारा प्रभु आपको जीवनभर आनन्दित करता रहेगा। इस आनन्द से बढकर और कौन सी अधिक आशीष है जो हमारा प्रभु हमें देता है। आप यह कहेंगे, मुझे कोई बच्चे की आशीष नहीं; मेरी शादी अभी तक नहीं हुई; मुझे कोई नौकरी है या आवश्यक आय नहीं है। पुनरूत्थान का प्रभु आज के दिन आपके जीवन में एक चमत्कारी कार्य करेगा। हमारा प्रभु यीशु जीवित है।

इस वचन के अनुसार जो अपने अपराध छिपा रखता है, उसका कार्य सफल नहीं होता, परन्तु जो उनको मान लेता और छोड भी देता है, उस पर दया की जाएगी। (नीतिवचन 28:13) यीशु की मन फिराएं और अपने पापों की क्षमा मांगे जो क्रूस पर आपके लिए मरा। वह आपको क्षमा करेगा और आपको एक धार्मिकता का जीवन देने में अगुवाई करेगा। क्योंकि विश्वास के द्वारा अनुग्रह ही से तुम्हारा उद्धार हुआ है; और यह तुम्हारी ओर से नहीं वरन परमेश्वर का दान है। (इफिसियों 2:8) उसका अनुग्रह कितना अद्भुत है! उस ने हमारे पापों, बीमारियों, संकटों और दुखों को क्रूस पर उठा लिया और हमें अपनी धार्मिकता का मुकुट रखा है। इस दिन हम इसीलिए मनाते हैं। यह हमारे लिए कितना बडा वरदान है; हमारा प्रभु हमारी दुर्बलता में आश्चर्यकर्म करता है। इसी कारण हमें इस दिन केवल आज के दिन ही नहीं बल्कि जीवनभर मनाना है।
क्रूस पर यीशु के मरने के बाद मरियम और मरियम मगदलिनी यीशु की कब्र पर गई। बहुत ही दुखी और व्याकुलता के साथ वे मसीह के शरीर को देखने वहां पर गई। वे यह विश्वास करके नहीं गई कि यीशु का पुनरूथान हुआ होगा। यद्यपि यीशु ने कहा कि वह मृतकों में से जी उठेगा परन्तु उन्होंने उस पर विश्वास नहीं किया। हां हम भी कभी कभी दुख में डूब जाते हैं और विश्वास में बलवंत नहीं होते हैं। उसी तरह से उन महिलाओं को कोई विश्वास नहीं था कि यीशु मृतकों में से जी उठा है। उस समय एक स्वर्गदूत प्रगट हुआ और महिलाओं से कहा,"मत डरो, मैं जानता हूं कि तुम यीशु को जो क्रूस  पर चढाया गया था ढूंढती हो। वह यहां नहीं है, परन्तु अपने वचन के अनुसार जी उठा है, आओ यह स्थान देखो,जहां प्रभु पडा था।'' जैसे कि वे कब्र से निकली डर और आनन्द के साथ उन्होंने उसके चेलों को यह कहा। देखो, प्रभु उनसे मिला और उनका स्वागत किया। (मत्ती 28:5-9) 

आज भी जब हम विश्वास करेंगे कि यीशु आज भी जीवित है, आपकी चाहे कैसी भी निर्बलता हो वह आपको बल देगा और आपको आशीष का एक माध्यम बनाएगा। अपने भले कार्यों के साथ प्रभु का आदर करें और उसकी महिमा के लिए अपनी प्रतिभाओं का उपयोग करें। परमेश्वर आपको सामर्थी रूप से इस्तेमाल करेगा और आप हमारे प्रभु के द्वारा अनगिनत आत्माओं के जीवनों में उसका पुनरूत्थान लाएंगे। आज के दिन आप और आपका परिवार बहुतायत से आशीष पाएगा। 
Prayer:
प्रेमी प्रभु, आपके पुनरूथान के सामर्थ को पाने के लिए मुझे अनुग्रह दें। हमारे साथ जीवित पुनरूत्थित परमेश्वर के रूप में रहने के लिए मैं आपको धन्यवाद देता/देती हूं। हे प्रभु, मैं अपने पापों से मन फिराता हूं। मुझे क्षमा करें और मुझे पवित्र करें। हे प्रभु मेरी मरी हुई आत्मा को पुनरूत्थित करें और मुझे कई लोगों के लिए आशीष बनाएं। मेरी मदद करें कि मैं आप पर विश्वास न खोऊं। मुझे अपने आनन्द से भरें कि हम आपके नाम की स्तुति करें और इस ईस्टर में आनन्दित होवें। यीशु के नाम में, आमीन!

1800 425 7755 / 044-33 999 000