Loading...
Evangeline Paul Dhinakaran

परमेश्वर के हाथ में एक शोभायमान मुकुट!

Sis. Evangeline Paul Dhinakaran
12 Apr
प्रियजन, क्या आप इस बात से चिंतित हैं कि आप का वेतन बहुत ही कम है; आपका परिवार गरीबी की दशा में और आर्थिक कमियां व्यतीत कर रहा है? आप चिंता मत करें क्योंकि आज से आप आशीषें पाएंगे परमेश्वर ने भजन संहिता 91:14,15 में यह प्रतिज्ञा की है (क्योंकि उसने जो मुझ से स्नेह किया है, इसलिए मैं उसे छुडाऊंगा; मैं उसको ऊंचे स्थान पर रखूंगा, क्योंक़ि उस ने मेरे नाम को जान लिया है, जब वह मुझ को पुकारे, तब मैं उसकी सुनूंगा, संकट में मैं उसके संग रहूंगा, मैं उसको बचाकर उसकी महिमा बढाऊंगा। प्रभु आपको सिर बनाएगा न कि पूंछ।'' (व्यवस्थाविवरण 28:13) क्या आप उधार लेनेवाले या देनेवाले बनोगे? प्रभु आपको निश्चय गरीबों को देनेवाला बनाएगा। प्रभु प्रतिज्ञा करता है कि "जब तू जल में होकर चले तो मैं तेरे संग संग रहूंगा।'' हमें इस संसार में और क्या चाहिए यदि प्रभु हमारे संग है? (यशायाह 43:2) इस आदर को प्रभु हमें देकर आशीष देता है। 

हम यह पढते हैं, "मुझ से प्रार्थना कर तो मेरी सुनकर तुझे बडे बडे और कठिन बातें बताऊंगा जिन्हें तू अभी नहीं समझता।''(यिर्मयाह 33:3) हम अपनी समस्याओं को बडा चढाकर नहीं कहेंगे परन्तु हम अपने मुंह से ये अंगीकार करेंगे कि हमारा प्रभु हमारे जीवनों में बडे बडे अद्भुत कार्य करेगा। प्रभु ने हमारे परिवार को इसी तरह से आशीष दी। मेरे पिता डॉ डी जी एस दिनाकरन ने उस समय प्रभु की सेवकाई की जब वे एक साधारण व्यक्ति और बहुत ही गरीब थे। कुछ समय ऐसे थे वे फटे पुराने कपडे पहनकर दफ्तर जाया करते थे। मेरी मां उनके कपडों को सिलकर धोती थी। इस तरह की गरीबी के समय हम ने सेवकाई शुरु की। जब हम पीछे मुडकर देखते हैं तो हम प्रभु को धन्यवाद देना नहीं भूलते हैं। प्रभु ने पीढियों को आशीष दी है। परमेश्वर ने हमें व्यक्तिगत रूप से आशीष दी है और सेवकाई में भी आशीषित किया है। भविष्यद्वक्ता यिर्मयाह लिखता है, "प्रभु मेरे साथ भयंकर वीर के समान है।''(यिर्मयाह 20:11
मेरे अतिप्रियो,आइए हम प्रभु की ओर देखें जो भयंकर वीर के समान है और उससे प्रार्थना करें जब प्रभु हमारे साथ होता है तो बीमारी,मृत्यु, गरीबी या दुख हमारी हानि नहीं कर सकते हैं। आइए हम प्रभु को अपनी महिमा के मुकुट के रूप में रखें "तब जाति जाति के लोग तेरा धर्म और सब राजा तेरी महिमा देखेंगे और तेरा एक नया नाम रखा जाएगा जो यहोवा के मुख से निकलेगा। तू यहोवा के हाथ में एक शोभायमान मुकुट और परमेश्वर की हथेली में राजमुकुट ठहरेगी।''(यशायाह 62:2,3) तब संसार आपकी ओर आश्चर्य रूप से देखेगा और कहेगा,वह तो पहले किसी के योग्य नहीं थी परन्तु अब तो राजा और रानी के रूप में रहती है। हमारा प्रभु अपने सिंहासन से ऐसी ही आशीषें हम को देना चाहता है। हम साधारण लोग नहीं है हम राजाओं के राजा की संतानें हैं। वह निश्चय अपनी संतानों को लज्जित नहीं करेगा। वह निश्चय आपको अपनी हथेली में राजमुकुट के रूप में रखेगा। 
Prayer:
हमारे प्रेमी स्वर्गीय पिता, मेरे जीवन से गरीबी हटाएं और आपकी महानता से मुझे भरें। मुझे अपने आनन्द की बहुतायत से तृप्त करें। मेरी मदद करें कि मैं आपके वचनों को मनन कर सकूं। आपकी उपस्थिति में अधिक समय बिताऊं। मुझे संकट से छुडाएं। मुझे अनुग्रह  दें कि मैं तेरे हाथ में एक शोभायमान मुकुट और परमेश्वर की हथेली में राजमुकुट ठहरूं। यीशु के नाम में प्रार्थना करता/करती हूं,

आमीन!

1800 425 7755 / 044-33 999 000