Loading...
Stella dhinakaran

आप प्रिय हैं!

Sis. Stella Dhinakaran
16 May
एक दिन एक मां ने जांचना चाहा कि उसका बच्चा उससे कितना प्यार करता है। इसलिए उसने अपने बच्चे को बगीचे में खेलने के लिए ले गई। जब बच्चा खेल रहा था, वह एक बडे पेड के पीछे छिप गई। बच्चा थोडी देर तक खेलता रहा और फिर अपनी मां को खोजना शुरु कर दिया। वह बचा यहां वहां मां की खोज में भागने लगा और उसे न पाकर जोर से रोना शुरु कर दिया। अपने बच्चे की जोर से रोने की आवाज को सुनकर वह अपने छिपे हुए स्थान से दौडती हुई बाहर निकली और अपने बच्चे को गले लगाया और उसे चूमना शुरु कर दिया। वह यह जानकर बहुत खुश थी कि उसका बच्चा उससे बेहद प्यार करता है।

परमेश्वर प्रेम है। (1 यूहन्ना 4:8,16) और वह हम से अत्यधिक प्यार करता है। उसका प्रेम अद्भुत और अतुलनीय है। जब मैं सोलह वर्ष की थी तब मैं ने परमेश्वर के दिव्य प्रेम को पाया और उसके बाद आज तक मैं इस दिव्य प्रेम से भरने में समर्थ हूं और आज भी मैं अपने जीवन में एक दिव्य शांति, आनन्द और खुशी का अनुभव करती हूं। मैं आनन्द से गाती हूं कि ये प्रेमी यीशु मेरी सभी चिंताओं और बोझ को उठाने के लिए मेरे लिए काफी है। यह जीवन निश्चय बहुत ही आनन्दमय है यदि आप अपने पूरे हृदय की गहराई से जान लेंगे कि आप किसी व्यक्ति जिसका नाम यीशु है उससे प्रेम किए जाते हैं। यदि नहीं तो अभी इसी वक्त उसके सामने खुद को सौंपे और उसे तब तक न छोडें जब तक उस में बने रहने के इस आनन्दपूर्ण जीवन को पा न लें।(यूहन्ना 15:4,5) उस में बने रहें और एक हर्षपूर्ण जीवन का आनन्द उठाएं।
प्रियजन, क्या आप के और स्वर्ग के पिता परमेश्वर के प्रेम के बीच में कुछ है? खुद को जांचे और उसके सामने अपनी कमियों को स्वीकार करें। आप उसके ज्ञान से भरे रहें कि यद्यपि आप पाप के गड्डे में भी हैं तौभी आप उसके द्वारा प्रेम किए जाते हैं। उसके प्रेम की डोरी आपको बचाने के लिए नीचे आती है। वह आपको कभी न छोडेगा न त्यागेगा। उस बच्चे के समान बने जो हमेशा अपनी मां की उपस्थिति की खोज में रहता है। अपने स्वर्गीय पिता के निकट हमेशा रहें।
Prayer:
प्रेमी प्रभु,

आपका प्रेम अतुलनीय है! आज से मुझे बल दें कि मैं आपको पूरे हृदय से प्रेम करूं और आपके दिव्य प्रेम का अनुभव बहुतायत से करूं। मैं आपको मदद के लिए धन्य कहता हूं क्योंकि आप कभी नहीं बदलते। हमारे प्रभु यीशु के प्रिय नाम में,मैं प्रार्थना करता हूं,

आमीन!

1800 425 7755 / 044-33 999 000