Loading...
Dr. Paul Dhinakaran

अपने पूरे मन से परमेश्‍वर की खोज करो!

Dr. Paul Dhinakaran
19 Apr
मेरा मन तुझ से कहता है, ‘‘हे यहोवा, तेरे दर्शन का मैं खोजी रहूँगा।’’ (भजन संहिता 27:8)
मसीह में अतिप्रिय, दुनिया में बहुत सारी चीजें हैं जिसके लिए आप लालायित है और इसके लिए आप प्रार्थना करते हैं। लेकिन ये सभी क्षणिक है और एक दिन और कुछ दिनों में धुलकर मिट जाएगा। इसलिए आपको उस चीज की खोज करनी चाहिए जो कि अनन्त है। बाइबल हमें सलाह देती है कि हमें हमेशा परमेश्‍वर की उपस्थिति को खोजना चाहिए। मेरा मन तुझ से कहता है, ‘‘हे यहोवा, तेरे दर्शन का मैं खोजी रहूँगा।’’ (भजन संहिता 27:8) एक परिवार था जिसमें माता-पिता अपने बेटे से बहुत प्रेम करते थे। एक दिन उसकी माताजी का देहान्त हो गया और पिता अपने बेटे की देखदेख अच्छी तरह से नहीं कर पा रहा था। इसलिए उसने अपने बेटे को एक अच्छे छात्रावास में दाखिला करा दिया।
पिता ने सोचा कि उसने अपने बेटे के भविष्य का अच्छा इंतजाम कर दिया। कुछ दिनों बाद, जब उस बच्चे का जन्म दिन अया, तो पिता ने छात्रावास के वार्डन को कुछ पैसे दिए और कहा, एक अच्छा जन्मदिन उपहार खरीदकर मेरे बेटे को दे देना क्योंकि मैं किसी काम से दूसरे शहर को जा रहा हूँ। वार्डन ने सब अच्छी चीजें उस बच्चे के लिए खरीदी। पर वह लड़का बहुत उदास हुआ और कहने लगा मुझे यह सब उपहार नहीं चाहिए। मुझे मेरे पापा चाहिए। उस छोटे लड़के को इस संसार के उपहार और ईनाम पसन्द नहीं आए, हालांकि उसके पिता ने ही उन उपहारों को भेजे थे। उसका ध्यान केवल उसके पिता पर था। सोचें कि जब उसके पिता अपनी दफ्तरी यात्रा से वापस लौटें होंगे तो वह कितना खुश हुआ होगा। अतिप्रिय, आपको भी आप अपना ध्यान यीशु पर केन्द्रित रखना चाहिए। इस संसार के सुख तो क्षण भर के लिए हैं। तो यीशु की ओर देखें। उसकी ओर निहारें और मेरे दर्शन का खोजी हो, तो मेरे मन ने तुझ से कहा, हे यहोवा, तेरे दर्शन का मैं खोजी रहूँगा। तब प्रभु आपके दिल की पुकार को सुनेगा। यीशु आपको अपनी महिमा एवं अनन्द आनन्द से भर देगा। मेरे प्रिय दोस्तों, आपको केवल मसीह पर ध्यान लगाना चुनना होगा। भौतिकवादी चीजें आपके अनन्त जीवन की इच्छा को ढकने न दे। इस संसार का सुख थोड़ी देर के लिए है। संसार और उसकी अभिलाषाएँ दोनों मिटते जाते हैं, पर जो परमेश्‍वर की इच्छा पर चलता है वह सर्वदा बना रहेगा (1 यूहन्ना 2:17)। यीशु आपको घर-अनन्त घर को वापस ले जाने के लिए जल्दी वापस आ रहा है। इसलिए आप सभों को उस पर अधिक ध्यान देना चाहिए। स्वर्गीय पिता आपकी सभी जरूरतों को जानता है और आपको प्रदान करेगा। इसलिए आपको सांसारिक जीजों से प्रेम नहीं रखना चाहिए, बल्कि अपने आँखे परमेश्‍वर पर लगाये रखनी चाहिए; क्योंकि केवल वह ही आपको आपकी समस्याओं से छुटकारा दे सकता है और आपके मन की इच्छाओं को पूरी कर सकता है। यह स्पष्ट रूप से बाइबल में कहा गया है,‘‘ तुम न तो संसार से और न संसार में की वस्तुओं से प्रेम रखो। यदि कोई संसार से प्रेम रखता है, तो उनमें पिता का प्रेम नहीं है’’ (1 यूहन्ना 2:15)। इसलिए आपको परमेश्‍वर के दर्शन का खोजना चाहिए और यीशु आपको उसकी महिमा और अनन्त खुशी से भर देगा। मत्ती 6ः33 का सुसमाचार कहता है, ‘‘इसलिए पहले तुम परमेश्‍वर के राज्य और उसके धर्म की खोज करो तो से सब वस्तुएँ भी तुम्हें मिल जाएँगी।’’ (मत्ती 6:33) आपको सांसारिक चीजों के बारे में चिन्ता नहीं करनी चाहिए; परन्तु यीशु की ओर देखे और उसके वचन का पालन करें और आप अपने जीवन में सभी भली चीजों से भर जाएँगे। हमारा परमेश्‍वर अनुग‘हकारी परमेश्‍वर है और वह हमेशा अपने बच्चों की जरूरतों को ध्यान में रखता है।
Prayer:
प्रेमी प्रभु, अपने वचन के द्वारा मुझ से बात करने के लिए धन्यवाद। आज मैं तेरे आगमन के लिये ठहरूँगा और तेरे प्रदीप्त चेहरे को निहारूँगा/निहारूँगी। हाँ स्वामी मैं इस संसार की चीजों के पीछे न भागूँ पर केवल तेरे चेहरे को देखूँ। यह मैं यीशु के नाम से माँगता/माँगती हूँ। आमीन्!

1800 425 7755 / 044-33 999 000