Loading...
Dr. Paul Dhinakaran

अनगिनत आशीषें

Dr. Paul Dhinakaran
13 Jan
हमारा परमेश्वर एक विश्वासयोग्य परमेश्वर है। और जो वो प्रतिज्ञा करता है वो उसे पूरी करता है। यदि विश्वास के द्वारा आप परमेश्वर की प्रतिज्ञाओं पर धावा बोलेंगे, वह उसे आपके जीवन में पूरा करेगा। अपने बुरे और भले समय में जब आप परमेश्वर के आज्ञाकारी बने रहेंगे तब वह आपको अपनी कई आशीषों का प्राप्तकर्त्ता बनाएगा। यशायाह के 54 अध्याय में, यह नबी परमेश्वर की संतानों को उत्साहिक करने के लिए परमेश्वर के वचन बताते है। लज्जा और उजाडपन का श्राप पूरी तरह से टूट जाएगा और इस्राएल फलवंत होगा। जब आप उसके नियमों को मानने में आज्ञाकारी होंगे,तब परमेश्वर आपके लिए अद्भुत कार्य करेंगे।

1990 में दक्षिण अफ्रीका में एक दम्पति रहता था। वह अफ्रीकी था और उसकी पत्नी ब्रिटिश नागरिक थी। परमेश्वर ने उन्हें इंगलैण्ड जाने को कहा। उन्होंने उसकी बुलाहट मानी और वे इंगलैण्ड गए। परन्तु वे यह जान न पाए कि परमेश्वर ने उन्हें इंगलैण्ड क्यों भेजा। जब वे इंगलैण्ड पहुंचे तब उनके पास कुछ भी नहीं था। उनके जेबें खाली थी उन्हें कोई सम्पर्क या कोई चर्च का पता नहीं था। उनके पास कुछ भी नहीं था। एक रात परमेश्वर ने उन्हें उठाया और यह कहकर उनसे बातें की,‘‘यूरोप में एक क्रिस्चियन टी वी की शुरूआत करो’’ उनकी दुदर्शा में उन्होंने अपने ऊपर जिम्मेदारी ली और उसके लिए प्रार्थना करनी शुरू कर दी। परमेश्वर ने उन्हें आशीष दी और उन्हें दो टी वी माध्यमों को शुरू करने का अनुग्रह किया। और उन्होंने पूरे वर्ष में यूरोप के 62 देशों में सुसमाचार का प्रचार किया। 
जीवन का वचन 

परमेश्वर केवल आज्ञाकारिता चाहता है। वह अद्भुत काम करेगा। परमेश्वर की संतानों की आज्ञाकारिता के कारण उसके नाम की महिमा होगी। क्या आपने परमेश्वर से कोई विशेष बुलाहट प्राप्त की है? तुरंत उसकी आज्ञा मानें। आज ही आपके हृदय में उसकी रोशनी चमके और खोजें कि उसके राज्य के लिए कोई कार्य अधूरा तो नहीं रह गया है। उसकी आशीषित इच्छा को पूरा करने से ही केवल सम्पूर्ण संतुष्टि मिलेगी। उठकर प्रकाशमान हो। वह न केवल आपको आशीष देगा बल्कि आपकी पीढी को भी आशीष देगा परमेश्वर की प्रतिज्ञा ‘पृथ्वी की सारी जातियां अपने को तेरे वंश के कारण धन्य मानेगी क्योंकि तूने मेरी बात मानी है।’ (उत्पत्ति 22:18)
Prayer:
स्वर्गीय प्रेमी पिता, मैं आप की अनमोल बुलाहट की आज्ञाकारिता के दिनों के लिए पश्चाताप करता/करती हूं। मैं आपके आशीष इच्छा को मेरे द्वारा पूरी करने के लिए अपने आप को समर्पित करता/करती हूं। आपका राज्य आए। उद्धार की ज्योति चमके। मसीह की देह को ईश्वर के निवास स्थान के रूप में एक साथ निर्मित किया जा सके। 

यीशु के नाम में, मैं प्रार्थना करता/करती हूं,आमीन। 

1800 425 7755 / 044-33 999 000