Loading...
Stella dhinakaran

परमेश्वर की इच्छा को पहचानना।

Sis. Stella Dhinakaran
11 Feb
हर दिन अपनी आशीषों को गिनना और उसकी स्तुति करना न भूलें। इसी को दाऊद ने किया क्योंकि प्रभु ने उसके जीवन में अनगिनत आशीषें दी। ‘‘हे मेरे परमेश्वर यहोवा, तू ने बहुत से काम किए हैं,जो आश्चर्यकर्म और कल्पनाएं तू हमारे लिए करता है वह बहुत सी हैं; तेरे तुल्य कोई नहीं! मैं तो चाहता हूं कि खोलकर उनकी चर्चा करूं, परन्तु उनकी गिनती नहीं हो सकती।’’(भजन संहिता 40:5) जैसे कि अय्यूब ने कहा, ‘‘वह इतने आश्चर्यकर्म करता है जो गिने नहीं जाते।’’दाऊद परमेश्वर के बताए हुए मार्गों पर चला। जैसे कि हम प्रार्थना करते और परमेश्वर के वचन पर मनन करते हैं जिस मार्ग में हम जाते हैं प्रभु खुद उस मार्ग की अगुवाई करेगा। ‘‘मैं तुझे बुद्धि दूंगा, जिस मार्ग में तुझे चलना होगा उस में तेरी अगुवाई करूंगा।’’ (भजन संहिता 32:8) इसलिए हमें प्रभु को उसकी सुरक्षा और अगुवाई के लिए धन्यवाद देना चाहिए। हमें परमेश्वर की आशीषों को गिनना और उन सब के लिए धन्यवाद देना चाहिए। तब प्रभु आपको उससे भी बढकर आशीषें देगा और जो कुछ भी आप करेंगे उस में अगुवाई करेगा। 

एक ईश्वरभक्त स्त्री थी जो अपने बच्चों को उनकी युवावस्था से ही हर चीज के लिए प्रभु को धन्यवाद कराना सिखाया। जब वह नई पेंसिल लाती तो भी वह उन्हें धन्यवाद करने को कहती, वह उन से कहती,‘‘ इसे चर्च ले जाओ और परमेश्वर को धन्यवाद दो।’’ जब वह नए कपडे लाती तो कहती, ‘‘जब चर्च जाओ इसे पहनो और परमेश्वर को धन्यवाद दो।’’ इस कार्य से उसकी छोटी बेटी उत्तेजित होकर प्रभु को पकड लिया और प्रभु भी उससे बहुत प्रसन्न हुआ। ‘‘छोटे से छोटा एक हजार हो जाएगा और सब से दुर्बल एक सामर्थी जाति बन जाएगा। मैं यहोवा हूं; ठीक समय पर सब कुछ शीघ‘ता से पूरा करूंगा।’’ (यशायाह 60:22) इस वचन के अनुसार प्रभु ने उसे आत्मा, शरीर और प्राण में बहुतात मात्रा में उन्नति की और वह प्रभु के लिए उठकर प्रकाशमान हुई।
मेरे प्रियजन,प्रभु अद्भुत रूप से आपकी अगुवाई करेगा कि आप जो कुछ भी करेंगे उस में परमेश्वर के हाथ का अनुभव करेंगे। परमेश्वर के अनगिनत आश्चर्यकर्मों को स्मरण करें और उसकी समझ के लिए उसे धन्यवाद दें जैसे कि उसने प्रतिज्ञा की कि ‘वह आपको बुद्धि देगा, जिस मार्ग में तुझे चलना होगा उस में आपकी अगुवाई करेगा।’ (भजन संहिता 32:8) जब हम उसके परामर्श के लिए उसे धन्यवाद देते रहेंगे तो वह हमारे साथ बहुत ही प्रसन्न होगा। परमेश्वर आपके चारों ओर उन लोगों को घेरे रखेगा जो जीवन की बातें बोलते हैं और परमेश्वर की योजनाओं की भविष्यद्वाणियां करते हैं। आप भी आपके चारों ओर के लोगों के लिए एक आशीष बनेंगे। प्रभु के साथ अपना अधिक समय बिताएं तो वह आपको पवित्र आत्मा के वरदानों से भरेगा और वह आप को कई नाश होनेवाली आत्माओं के लिए प्रकाशस्तंभ बनाएगा। 
Prayer:
स्वर्गीय पिता, मुझे भी एक ऐसा हृदय दें जिससे कि मैं आप के भले कायों के बारे में सोचूं और उनके लिए धन्यवाद दूं। मुझे अनुग्रह दें कि मैं उन्हें आप के चरणों पर रखूं और उनके लिए धन्यवाद दूं और उसी के अनुसार कार्य करूं। यीशु के अद्भुत नाम में, मैं प्रार्थना करता/करती हूं,

आमीन!

1800 425 7755 / 044-33 999 000